मेड-इन-इंडिया प्रोडक्ट पर होगा बदलाव

Business News / बिज़नेस समाचार  : 15 जून को गलवान घाटी में हिंसक झड़प में 20 भारतीय सैनिकों के शहीद होने के बाद से दोनों देशों में तनाव बहुत ज्यादा बढ़ गया है। भारतीय चीनी सामानों का बहिष्कार करने की मांग कर रहे है। यहां तक की केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने चीनी सामानों के साथ-साथ चीनी खानें को भी बैन करने की मांग कीहै।

इसी को देखते हुए  चीनी उत्पादों पर नजर रखने के साथ अब सरकार शाकाहारी और मांसाहारी खाद्य पदार्थों के लिए हरे और लाल डॉट्स की तर्ज पर सभी घरेलू और विदेशी निर्मित सामानों के लिए अलग-अलग रंग कोड की व्यवस्था करने पर विचार कर रही है। बता दें कि अब मेड-इन-इंडिया सामान के लिए कलर कोड नारंगी या केसरिया हो सकता है। इस कलर से लोग आसानी से समझ सकेंगे की कौन सा प्रोडक्ट देसी है और कौन सा विदेशी। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *